ग्मी में ्यों हेल्दी है सत्तू? इन 7 फायदों प ें गौ

ग्मी में खानपान ा खास ख्याल न सि्फ आपे शी े लिए बेहत है, बल्ि आपो डॉ्ट े पास जाने से बचा सता है. सभी जानते हैं ि ग्मी में प्यास ज्यादा लगती है औ इसे लिए हम पानी से ले जूस, शबत आदि ा इस्तेमाल ज्यादा ते हैं. ऐसे में सत्तू आपे लिए ए विल्प हो सता है. ाले चनों से बना सत्तू सबसे ज्यादा शबत े तौ प इस्तेमाल होता है. खास बिहा, बंगाल औ उत्त प्देश में हने वाले पिवा इसा खूब इस्तेमाल ते हैं. सत्तू ो औ प्भावशाली बनाने े लिए इसमें ज्वा औ बाजे ा आटा भी मिलाया जाता है.

श्मिों ी पहली पसंद है सत्तू
दिनभ से ाम हे मजदूों े लिए सत्तू से ज्यादा बेहत औ ्या हो सता है. जहां ए ओ खाने में स्वाद लाता वहीं दूसी ओ सत्तू में बहुत ज्यादा प्ोटीन होता है जो स्वास्थ े लिए ाफी लाभदाय है. यह सस्ता भी है औ आसानी से मिल भी जाता है.

सत्तू औ भूनने ा महत्व
सत्तू ा आटा भूने हुए चने से तैया िया जाता है. इसा सबसे बड़ा फायदा ये होता है ि इससे सत्तू ा प्ोटीन खत्म नहीं होता. शी ो पानी से भी ज्यादा ठंड पहुंचाता है.फिटनेस फ्ि सत्तू ी बनी ड्िं पीना ना भूलें. यह शी ो पानी से भी ज्यादा ठंड पहुंचाता है. साथ ही प्ोटीन भी देता है. इसा फायदा सबसे ज्यादा व्आउट े बाद होता है.

सत्तू से बनने वाले व्यंजन
सत्तू शबत ही नहीं, बल्ि ई स्वादिष्ट व्यंजन बनाने में भी ाम आता है. बिहा-पू्वांचल में सबसे लज़ी़ज़ लिट्टी में भी सत्तू भा जाता है. सत्तू े पाठे भी ठी उसी तह बनते हैं जैसे हम आलू े पाठे बनाते हैं. सत्तू भी हुई पूड़ियां भी बनती हैं. सत्तू में पहले लहसून, प्याज, हींग, जीे आदि ो मिला दिया जाता है, फि उसे पूड़ी में भ दिया जाता है. उसे बाद पूड़ी बना दी जाती है.

बच्चों े लिए ैसे फायदेमंद
सत्तू बढ़ती उम् े बच्चों े लिए ाफी फायदेमंद है. अग सत्तू े बने आटे ा स्वाद दुगना ना हो तो गुड़ ा इस्तेमाल ें. जैसा हम जानते है सत्तू से शी ो प्ोटीन, विटामिन ए, ा्बोहाईड्ेट्स, मिनल मिलता है, इसलिए आटे में भी थोड़ी मात्ा में सत्तू ा उपयोग िया जा सता हैं.

सत्तू डायबटीज़ े मीज़ों े लिए लाभदाय
्योंि सत्तू में अच्छी मात्ा में आयन, मैगनीज़, मैग्नीशियम, म ग्लाइसेमि औ सोडियम होता है, इसलिए जानाों ी माने तो डायबटीज े मीजों े लिए ये फायदेमंद होता है.

जब नुसान पहुंचा सता है सत्तू
ात में सत्तू से बने व्यंजन खाने से पहेज ना चाहिए. जब भी सत्तू ा शबत पिएं तो उसे पतला खें, ताि ये आसानी से पच जाए. खाली पेट सत्तू शी े लिए सबसे लाभदाय होता है. लोग सत्तू ो दूध में मिलाे पीने से भी मना ते हैं.