विभिन्न प्ा े योगासन (वज्ासन)

वज्ासन

वज् ा मतलब होता हैं ठो अथवा मजबूत । इस आसन ो ने से हमाे पै, ख़ास जांघ (Thigh) ा हिस्सा मजबूत औ शी स्थि होने े ाण इस आसन ो ” वज्ासन ” हा जाता हैं। इस आसान ो दिन में भी भी सते हैं। यह अेला आसन है जो खाने े तुंत बाद सते हैं। ये योगा भी दे त सते हे औ इसमे ज़्यादा ज़ो भी लगाना नही पड़ता। आप इसे बिना हीले ई दे त सते हे।

प््िया:

भोजन ने े 5 मिनिट बाद ए समान, सपाट औ स्वच्छ जगह प म्बल या अन्य ोई आसन बिछाए। ंबल ो पूी तह से बिछाए। उसप अपने साधाण तीे से बैठिए। चित् मे दिखाए गये अनुसा पैों ो घुटने से मॉड् एडिया पीछे ी औ ले जाए। म ो सीधी खे। दोनो हाथों ो घुटनों पे खे औ साथ ही ध्यान खे हाथ औ म दोनो एदम सल हो। ुछ दे ऐसे ही बैठे हिए जब त आप बैठ से। उसे बाद धीे धीे अपनी साधाण अवस्था मे बैठ जाइए।

लाभ:

इस योगा ो ने से पाचन प््िया सुधती हे। नाडी ी सुुआती भाग बलशाली होता हे, जिससे ्तप्वाह भी सुधता हे। इसी अवस्था मे बैठे हने से शी े अंती अवयव (Organs) दबे नही हते उन्हे साधाण अवस्था मे लाया जा सता हे। पेट े अलग अलग ोगों से भी छुटाा देने ा ाम ये योगा ता हे। घुटनों े द्द से बचने े लिए भी ये योगा बहोत प्भावशाली हे। अग आपो बहोत ही घुटनों ा द्द हे तो इसे धीे धीे से े। शी ो सुडौल बनाए खता हैं। वजन म ने में मददगा हैं। महिलाओ में मासि ध्म ी अनियमितता दू होती हैं। ीढ़ ी हड्डी मजबूत होती हैं। मन ी चंचलता ो दू एाग्ता बढ़ाता हैं।

यहाँ देखे वीडियो